दिल्ली

व्यापारी से रंगदारी मांगने वाले दबोचे, ‘क्राइम पेट्रोल’ और ‘सावधान इंडिया’ देख हुए थे ट्रेंड

नई दिल्ली | दिल्ली के जैतपुर में रहने वाले एक कपड़ा व्यापारी से 30 लाख की रंगदारी मांगने वाले तीन आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों ने टीवी शो ‘क्राइम पेट्रोल’ और ‘सावधान इंडिया’ देखकर वारदात की योजना बनाई थी। गिरफ्तार किए गए आरोपियों की पहचान 22 वर्षीय विजेंद्र सिंह, 19 वर्षीय ऋतिक श्रीवास्तव और 23 वर्षीय अमित कुमार के रूप में हुई है।
दक्षिण-पूर्वी दिल्ली के एडिशन डीसीपी घनश्याम बंसल ने बताया कि 30 जनवरी को बाइक सवार दो बदमाशों ने जैतपुर निवासी 45 वर्षीय कपड़ा व्यापारी की कार पर हमला किया था। इस दौरान उन्होंने उनकी कार का शीशा तोड़ दिया था। इसके 10 मिनट बाद एक अनजान नंबर से पीड़ित व्यापारी के फोन पर कॉल आई।
फोन में आए लिंक पर क्लिक करते ही व्यवसायी के खाते से 60,000 रुपये गायब
कॉल करने वाले व्यक्ति ने व्यापारी से 30 लाख रुपये की रंगदारी मांगी। आरोपी ने रंगदारी नहीं देने पर व्यापारी के बेटे को जान से मारने की धमकी भी दी थी।इसके बाद पीड़ित ने मामले की सूचना पुलिस को दी।पीड़ित व्यापारी की शिकायत पर पुलिस ने केस दर्ज कर घटनास्थल के आसपास की सीसीटीवी फुटेज खंगाली।
इसके साथ ही पुलिस ने आरोपियों के मोबाइल नंबर को भी सर्विलांस पर लगा दिया। इससे पुलिस को तीनों आरोपियों के बारे में अहम सुराग हाथ लगा, जिसके बाद पुलिस ने बुधवार को उन्हें दबोच लिया। आरोपी विजेंद्र मीठापुर का रहने वाला है, जबकि ऋतिक श्रीवास्तव जैतपुर और अमित कुमार फरीदाबाद का रहने वाला है।
एलआईसी एजेंट बनकर पत्नी से व्यापारी का नंबर लिया : पुलिस की पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि उन्हें पता था कि व्यापारी के पास बहुत अधिक रुपये हैं। इसके बाद ऋतिक और विजेंद्र ने एलआईसी एजेंट बनकर पीड़ित व्यापारी की पत्नी से संपर्क किया। उन्होंने एलआईसी की स्कीम के बारे में बात करने के लिए व्यापारी का नंबर उनकी पत्नी से ले लिया। इसके बाद व्यापारी के नंबर पर फोन कर उन्होंने रंगदारी मांगी। हालांकि, बाद में वे पुलिस के हत्थे चढ़ गए।
तीनों आरोपी बचपन के दोस्त
जांच अधिकारी का कहना हैकि गिरफ्तार तीनों आरोपी बचपन के दोस्त हैं। विजेंद्र ने 12वीं कक्षा तक पढ़ाई की है।फिलहाल वह बेरोजगार था। वहीं, ऋतिक 11वीं कक्षा में पढ़ रहा है। वह पीड़ित व्यापारी के घर से थोड़ी दूरी पर रहता था, जबकि अमित कुमार एक कॉल सेंटर में टेली कॉलर का काम करता था।
गुमराह करने का प्रयास
मामले की जांच कर रही पुलिस का कहना है कि आरोपियों ने टीवी शो ‘क्राइम पेट्रोल’ और ‘सावधान इंडिया’ देखकर पुलिस को गुमराह करने की कोशिश की। आरोपियों ने रंगदारी मांगने के लिए फर्जी पते पर सिमकार्ड का इंतजाम किया। फोन करने के बाद सिम व मोबाइल को फेंक दिए, ताकि पुलिस सर्विलांस के जरिए उन तक न पहुंचे।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *