Home धर्म-संसार

धर्म-संसार

धर्म-संसार
मेष: आत्मविश्वास से लबरेज रहेंगे। परन्तु धैर्यशीलता में कमी रहेगी। माता को स्वास्थ्य विकार रहेंगे। रहन-सहन अव्यवस्थित रहेगा। वृष:परिवार की जिम्मेदारियां बढ़ सकती हैं। मान-सम्मान में वृद्धि होगी। नौकरी में यात्रा का कार्यक्रम बन सकता है। मिथुन: परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थान की यात्रा का कार्यक्रम बन सकता है। माता-पिता का सहयोग मिलेगा। स्वास्थ्य […]Continue Reading
धर्म-संसार
नई दिल्ली। भक्त पुण्डरीक उत्सव (पंढरपुर)। सूर्य उत्तरायण। सूर्य दक्षिण गोल। शिशिर ऋतु। प्रात: 10.30 बजे से मध्याह्न 12 बजे तक राहुकालम्।. 15 फरवरी, शुक्रवार, 26 माघ (सौर) शक 1940, 3 फाल्गुन मास प्रविष्टे 2075, 9 जमादि-उस्सानी सन् हिजरी 1440, माघ शुक्ल दशमी मध्याह्न 1.19 बजे तक उपरांत एकादशी, मृगशीर्ष नक्षत्र रात्रि 8.52 बजे तक […]Continue Reading
धर्म-संसार
माघ मास में शुक्ल पक्ष अष्टमी को भीष्म अष्टमी कहा जाता है। इस दिन पितामह भीष्म ने प्राण त्यागे थे। उनकी स्मृति में यह व्रत किया जाता है। इस तिथि पर व्रत रखने का विशेष महत्व है। इस व्रत के प्रभाव से संस्कारी और सुयोग्य संतान प्राप्त होती है। पितामह भीष्म ने ब्रह्मचर्य का वचन […]Continue Reading
धर्म-संसार
प्राचीनकाल में बसंत पंचमी के दिन से ही बच्चों की शिक्षा आरंभ की जाती थी। आज भी यह परंपरा है। मां सरस्वती ज्ञान-विज्ञान, कला, संगीत और शिल्प की देवी हैं। इस दिन बच्चे मां सरस्वती की आराधना अवश्य करें। सुबह स्नान कर पीले या सफेद वस्त्र धारण करें। मां सरस्वती को पीले और सफेद पुष्प […]Continue Reading
धर्म-संसार
सोमवार को आने वाली अमावस्या सोमवती अमावस्या कहलाती है। यह वर्ष में एक या दो बार ही आती है। सोमवार को भगवान शिव का दिन कहा गया है, अत: सोमवती अमावस्या को भगवान शिव एवं हनुमान जी की पूजा करने से जीवन की बड़ी से बड़ी कठिनाइयां दूर हो जाती हैं। इस दिन पीपल के […]Continue Reading
धर्म-संसार
वास्तु देवता की संतुष्टि भगवान श्रीगणेश की आराधना के बिना नहीं हो सकती। भगवान गणपति का वंदन कर वास्तुदोषों को शांत किया जा सकता है। जिस घर में नियमित भगवान श्रीगणेश की आराधना होती है वहां वास्तु दोष उत्पन्न होने की संभावना बहुत कम हो जाती है। माना जाता है कि एक दंत वाले श्रीगणेश […]Continue Reading
धर्म-संसार
पटना। .सरस्वति महामाये शुभे कमललोचिनि… विश्वरूपि विशालाक्षि… विद्यां देहि परमेश्वरि… । माघ शुक्ल पंचमी रविवार 10 फरवरी को विद्या की अधिष्ठात्री देवी मां सरस्वती की पूजा होगी। इसी दिन मां सरस्वती का अवतार माना जाता है। सरस्वती ब्रह्म की शक्ति के रूप में भी जानी जाती हैं। नदियों की देवी के रूप में भी इनकी […]Continue Reading
धर्म-संसार
मेष: मन अशान्त रहेगा। माता को स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। परिवार की समस्याएं बढ़ेंगी। संचित धन में कमी आयेगी। वृष: क्षणे रूष्टा-क्षणे तुष्टा के भाव रहेंगे। कार्यक्षेत्र में व्यवधान आ सकते हैं। परिश्रम के यथेष्ट फल संदिग्ध है। मित्रों का सहयोग मिलेगा। मिथुन: पारिवारिक जीवन में कुछ सुधार हो सकता है। आय की स्थिति […]Continue Reading
धर्म-संसार
नई दिल्ली। सकट चौथ संकटों से उबरने का दिन होता है। माघ मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को सकट चौथ के रूप में मनाया जाता है। इस चतुर्थी को तिलकुटा चौथ, संकटा चौथ, संकष्टि चतुर्थी, माघी चतुर्थी भी कहा जाता है। संकष्टि चतुर्थी का मतलब होता है संकटों का नाश करने वाली चतुर्थी। महिलाएं […]Continue Reading
धर्म-संसार
नई दिल्ली। माघ मास की चतुर्थी तिथि को मनाया जाता है संकष्ठी चतुर्थी व्रत। इसे तिल चतुर्थी या माघी चतुर्थी भी कहा जाता है। इस दिन महिलाएं अपने बेटे की लंबी आयु की कामना के लिए निर्जला व्रत रखती हैं। इस दिन भगवान गणेश और चंद्रमा की उपासना की जाती है। कहते हैं कि इस […]Continue Reading