Home राजनीति

राजनीति

राजनीति
दुनिया के सबसे विशाल लोकतंत्र भारत में 16वीं लोकसभा के गठन के लिए आम चुनाव का प्रचार अजब—गजब मंजर दिखा रहा है। रामनवमी जुलूस के बहाने पश्चिम बंगाल में दंगा फैलाने, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उर्फ अजय सिंह बिष्ट द्वारा ‘अली और बजरंग बली’ कह के तथा बसपा अध्यक्ष मायावती द्वारा मुसलमानों को अपना […]Continue Reading
राजनीति
टीएन शेषन ने बतौर चुनाव आयुक्त बूथ लूट बंद कराने का अभियान चलाया था। उस समय बैलेट पेपर से चुनाव होते थे और स्वतंत्र व निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित करने के रास्ते में सबसे बड़ी चुनौती बूथ कैप्चरिंग थी। बंदूक के दम पर लोगों को मतदान केंद्रों से भगा दिया जाता था या मतदान केंद्र पर […]Continue Reading
राजनीति
चुनाव के बाद का बदलाव काफी कठिनाई भरा और महत्त्वपूर्ण होता है। चूंकि देश के संस्थान काफी कमजोर हैं। इसलिए काफी कुछ व्यक्तित्वों पर निर्भर करता है। पिछले वक्त का काफी कर्ज एकत्रित हो चुका है जिससे निपटने के लिए मांग पर ध्यान देने और संसाधन जुटाने की आवश्यकता है। ऐसे में बेहतर है एक […]Continue Reading
राजनीति
क्षेत्रफल के नाते विश्व के सातवें और जनसंख्या के मामले में दूसरे सबसे बड़े राष्ट्र- भारत में इन दिनों आम चुनाव चल रहे है, विभिन्न राजनीतिज्ञों के आरोप-प्रत्यारोप, आचरण और शुचिता आदि को लेकर मीडिया से लेकर सड़क पर चर्चा हो रही है। इसी बीच भारतीय विमर्श में एक वैश्विक समाचार को उपयुक्त स्थान मिलने […]Continue Reading
राजनीति
आम चुनाव के दूसरे चरण में 95 लोकसभा क्षेत्रों में हुए मतदान के बाद केंद्र से भारतीय जनता पार्टी की विदाई के हर्फ़ सियासी आसमान में और सुर्ख़ हो गए हैं। अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दोबारा सत्तासीन करने की कोई जबरदस्त हुलक मतदाताओं के मन में होती तो इस चरण में 12 राज्यों में […]Continue Reading
राजनीति
गाय भारतीय समाज और भारतीय अर्थव्यवस्था का एक महत्त्वपूर्ण हिस्सा है। गाय को लेकर पिछले पांच साल में खूब सियासत हुई है। सत्ताधारी बीजेपी ने खुद को गौ-भक्त के रूप में पेश किया है। लेकिन हकीकत यह है कि पशुधन को लेकर सरकार अब तक ठोस नीति नहीं बना सकी है। लेकिन अगर यह पूछा […]Continue Reading
राजनीति
भारतीय जनता पार्टी ने लोक सभा चुनाव के लिए अपने घोषणापत्र को ‘संकल्प पत्र’ नाम दिया गया है। इसमें पांच प्रमुख वादे किए गए हैं- अयोध्या में राम मंदिर निर्माण, जम्मू-कश्मीर से संविधान के अनुच्छेद-35ए को ख़त्म करना, समान नागरिक संहिता लागू करना, नागरिकता संशोधन कानून लागू करना और पांचवां- आतंकवाद को बिल्कुल बर्दाश्त ना […]Continue Reading
राजनीति
आयकर की टीम द्वारा पिछले 2 दिन से भोपाल और इंदौर में चल रही छापे की कार्रवाई से राजनीतिज्ञों में ही नहीं, बल्कि अफसरों में भी छटपटाहट बढ़ गई है। मंत्रालय में दिन भर केवल छापे की कार्रवाई की टोह लेने में अधिकारी व्यस्त रहे। दरअसल जब 15 वर्षों के बाद प्रदेश में कांग्रेस की […]Continue Reading
राजनीति
“यह लोगों की स्वतंत्रता का प्रश्न है। फ्रांस के संविधान ने हड़ताल में शामिल होने का अधिकार दिया है। नेशनल यलो वेट मूवमेंट भी हुआ मेरा मुवक्किल उसमें हिस्सा लेना चाहता था। क्या राष्ट्रीय आंदोलन के वक्त चुप रहना चाहिए सिर्फ इसलिए कि वह आमेजन का कर्मचारी है?” यह उस कर्मचारी के वकील का बयान […]Continue Reading
राजनीति
शिवराज सिंह चौहान लोकसभा चुनाव लड़ेंगे या नहीं लड़ेंगे समय आ गया जब सस्पेंस से पर्दा हटाने वाला है.. चौहान ने अपनी ओर से सार्वजनिक तौर पर चुनाव लड़ने में भले ही अतिरिक्त दिलचस्पी नहीं दिखाई.. लेकिन राष्ट्रीय उपाध्यक्ष की भूमिका में अपनी जिम्मेदारी का एहसास भी कराया.. जो हमेशा पार्टी लाइन को सर्वोपरि बताकर […]Continue Reading