Home साक्षात्कार

साक्षात्कार

साक्षात्कार
ज्वलंत प्रश्न है कि विदेशों में बसे भारतीयों की इस तकलीफ का ध्यान रखने का निर्णय लिया गया है तो भारत में ऐसे निर्णय क्यों नहीं लिये जाते ? प्रश्न यह भी है कि विदेशों में ही क्यों बढ़ रही है हिन्दी की ताकत ? संयुक्त अरब अमारात याने दुबई और अबूधाबी ने ऐतिहासिक फैसला […]Continue Reading
साक्षात्कार
क्या उस देश के लोगों को प्रेम का ढाई अक्षर किसी यूरोप या उस जैसे किसी अन्य देश से सीखने की जरूरत है ? वैलेंटाइन डे जैसे दिन केवल शारीरिक संबंधों तक ही सीमित हैं। जिनके अंत में हताशा और दुख ही छिपा हुआ है। ये सारे ढकोसले तो चमड़े के पुजारियों की देन हैं। […]Continue Reading
साक्षात्कार
प्रियंका गांधी की सक्रिय राजनीति में इंट्री ने सपा−बसपा की नींद उड़ा दी। सपा−बसपा गठबंधन का इसी वर्ष जनवरी में ऐलान हुआ था। दोनों दलों ने मोदी से मुकाबले के लिए 80 में से 76 सीटें आपस में बराबर बांटी। उत्तर प्रदेश अप्रैल−मई में होने वाले लोकसभा चुनाव की प्रयोगशाला बनता जा रहा है। जीत […]Continue Reading
साक्षात्कार
प्रियंका गांधी ने राजनीति में आते ही दूसरी राह चुनी। पति के साथ खड़ा होना आसान रास्ता था। देश के सम्मुख वह आदर्श पत्नी श्रीमती वाड्रा के रूप में प्रस्तुत हुईं और इंदिरा-2 यानि नेता बनने से चूक गईं। अमेरिका से लौटीं प्रियंका गांधी वाड्रा ने भारत पहुंचते ही कहा ‘आओ नई राजनीति की शुरूआत […]Continue Reading
साक्षात्कार
हैरत की बात है कि राहुल गांधी सेनाध्यक्षों के बयान से संतुष्ट नहीं होते, फ्रांस के राष्ट्रपति के बयान से संतुष्ट नहीं होते लेकिन एक अंग्रेजी अखबार में प्रकाशित अधूरी खबर से इतने संतुष्ट हो जाते हैं कि प्रेस कांफ्रेंस ही बुला लेते हैं। क्या राहुल रॉफेल डील से सचमुच असंतुष्ट हैं ? अगर हाँ, […]Continue Reading
साक्षात्कार
विरोधियों की बात करें तो ”कुछ तो लोग कहेंगे लोगों का काम है कहना…” क्योंकि सभी को अच्छाइयां कम बुराइयां ज्यादा दिख रही हैं। किसी को चुनावी बजट लग रहा है तो जो खुद भ्रष्ट हैं उनको यह लगता है कि योगी के पाप कुंभ स्नान से भी नहीं धुलेंगे। योगी आदित्यनाथ ने बजट में […]Continue Reading
साक्षात्कार
दलित राग अलापने वाली मायावती ने सरकारी धन की बर्बादी में कोई कसर बाकी नहीं रखी। दरअसल देश को चलाने के लिए कानून बनाने वाले राजनीतिक दल खुद को इससे ऊपर समझते हुए मनमानी करने पर उतारू रहते हैं। देश के संसाधनों और सरकारी खजाने को निजी जागीर समझने वाले राजनीतिक दलों के लिए बहुजन […]Continue Reading
साक्षात्कार
मोदी ने इन पौने पांच सालों में देश की राजनीति का स्तर भी सुधारा है। इन पौने पांच सालों के दौरान पुरानी चली आ रही व्यवस्था से ही ईमानदार सरकार का संचालन करके मोदी ने लोगों की धारणा को बदलने का काम किया। ‘मन की बात’ कार्यक्रम के दौरान खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बताया […]Continue Reading
साक्षात्कार
संघ और विहिप, दोनों ने अदालत के फैसले का इंतजार करने का इरादा छोड़ दिया था और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह किया था कि अयोध्या में राम मंदिर बनाने के लिए वह अध्यादेश जारी करें। कुंभ के अवसर पर आयोजित धर्म-संसद में विश्व हिंदू परिषद ने जो घोषणा की है, उसके कारण देश के […]Continue Reading
साक्षात्कार
उत्तर प्रदेश के नेताओं के साथ ममता दीदी का रवैया प्रदेश के लोगों को रास नहीं आ रहा है। उत्तर प्रदेश की जनता में ममता के प्रति जबर्दस्त नाराजगी है। योगी के अपमान को यूपी का अपमान बताया जा रहा है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का धरना खत्म हो गया है। ममता जब […]Continue Reading