सेहत

Health Tips : बाबा रामदेव के Video में देखें ये 5 आसन, गायब हो जाएगा बाहर निकला पेट

नई दिल्ली। हमारी लाइफस्टाइल जैसी है, उसका सबसे ज्यादा असर पेट पर पड़ रहा है। इसकी वजह से ज्यादातर लोगों का पेट निकला रहता है। इस समस्या से निपटने के लिए योग गुरु बाबा रामदेव के बताए योगा के ये 5 आसन आपकी मदद कर सकते हैं। आइए जानते हैं इनके बारे में। नीचे दिए Video लिंक में बाबा रामदेव खुद बता रहे हैं इन्हें करने का सही तरीका।
पवन मुक्त आसान या मंडूक आसन : इसे करने के लिए जमीन पर सीधे लेट जाएं। अब दोनों पैरों को जोड़ें और घुटनों से मोड़ेते हुए सीधा ऊपर की ओर नाक तक लेकर आएं। इस अवस्था में रहते हुए नाक को घुटनों से छूना है। इस स्थिति में आधा मिनट रहना है। इसके बाद धीरे-धीरे सामान्य अवस्था में लौटना है।
उत्तानपाद आसान : पेट, नाभी, धरन सब सही रहते हैं। इस आसन के लिए जमीन पर सीधे लेट जाएं। दोनों हाथों को सीधा करके शरीर के दोनों ओर रखें और दोनों पैरों को जोड़ते हुए सीधा जमीन से ऊपर उठाना है। तकरीबन 30 डिग्री पर लाकर पैरों को स्थिर रखना है। इस स्थिति में आधा मिनट पैर उठाकर रखना है। इसके बाद वापस सामान्य अवस्था में लौट आना है।
नोक आसन : यह आसन भी पेट की मसल्स के लिए बहुत अच्छा होता है। इसे करने के लिए जमीन पर सीधा लेट जाएं। दोनों हाथों को जांघों के ऊपर लेकर आएं और 30 डिग्री पर लाकर रुक जाएं। अब हाथों को जमीन से उठाते हुए कंधों और पीठ को जमीन से उठाते हुए दोनों हाथों को घुटनों के ऊपर तक ले आएं। ऐसा करते समय आपकी कमर के बल पर पूरा शरीर टिक जाएगा। इस स्थिति में शरीर को आधा मिनट बैलेंस करना है। इसके बाद सामान्य अवस्था में धीरे-धीरे वापस लौटना है।
सेतुबंध आसन : इस आसान के लिए भी जमीन पर सीधे लेट जाएं। अब पैरों को घुटनों से मोड़कर हिप्स लगाकर छोड़ दें। इसके बाद दोनों हाथों से पैरों की एडि़यों को पकड़ें और कंधे व सिर के बल पर कमर व पीठ को जमीन से ऊपर उठाएं। इस अवस्था में भी कम से कम आधा मिनट रुकें।
पादअंगुष्ठनासास्पर्श आसन : जमीन पर पीठ के बल सीधा लेट जाएं। अब एक पैर को घुटने से मोड़ते हुए ऊपर लेकर आएं। जिस तरह बच्चे अपने पैर का अंगूठा चूसते हैं, उसी तरह आप भी अपना अंगूठा पकड़कर नाक को छुएं। इस आसान दोनों पैरों से बारी-बारी करें। इसके बाद इसे दोनों पैरों के अंगूठे पकड़कर एक साथ दोनों पैरों से करें। इस आसान को आधा मिनट करना है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *